"Shah Rukh and Aamir spoke of intolerance 5 years ago, and they were absolutely right"

"Shah Rukh and Aamir spoke of intolerance 5 years ago, and they were absolutely right"



देशभर में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर महीनों से हंगामा है। बीती रात जेएनयू में हुए हिंसा ने और खून खौलाने वाला काम किया। CAA और जामिया, जेएनयू जैसे यूनिवर्सिटीज़ में छात्रों पर हुई हिंसा के खिलाफ बॉलीवुड भी खुलकर सामने आया है। स्वरा भास्कर, तापसी पन्नू, राजकुमार राव, ऋचा चड्ढा, शबाना आजमी, जावेद अख्तर, अनुराग कश्यप और अनुभव सिन्हा ने ट्विटर पर अपना विरोध जाहिर किया है। लेकिन कुछ सुपरस्टार्स की चुप्पी पर कई लोगों ने सवाल खड़े किये हैं।

इन स्टार्स में शामिल हैं शाहरुख खान, सलमान खान, आमिर खान, अमिताभ बच्चन.. ऐसे में निर्देशक अनुभव सिन्हा ने ट्विटर पर शाहरुख- आमिर के पक्ष में एक पोस्ट किया है।

सही थे शाहरुख- आमिर अनुभव सिन्हा ने लिखा- 'क्या आपको याद है आज से पांच साल पहले भारत के दो सुपरस्टार ने एक शब्द का प्रयोग किया था, जिसे लेकर उनकी खूब आलोचनाएं हुई थी और कोई भी उनके लिए खड़ा नहीं हुआ था। कोई भी नहीं। वो स्टार कोई और नहीं.. शाहरूख खान और आमिर खान थे, और वो शब्द था ‘असहिष्णुता' और वे बिल्कुल सही थे।' शाहरुख ने दिया था बयान- शाहरुख खान ने एक इंटरव्यू में कहा था- असहिष्णुता चरम पर है। मुझे लगता है कि यह मूर्खतापूर्ण है। असहिष्णु होना बेवकूफी है और यह हमारा सबसे बड़ा मुद्दा है न कि केवल एक मुद्दा। धार्मिक असहिष्णुता और इस देश में धर्मनिरपेक्ष नहीं होना सबसे बुरे प्रकार का अपराध है जिसे आप देशभक्त के रूप में कर सकते हैं..

इस बयान पर हुआ था बवाल 'पश्चिमी देशों में आपकी राय का सम्मान होता है, लेकिन मुझे लगता है.. हमारे देश में जब आप कोई अपनी राय देते हैं तो ये विवाद को जन्म देती है.. धार्मिक असहनशीलता और किसी भी तरह की असहनशीलता हमें अंधकार युग की ओर ले जाते हैं.


फिल्में भी मुश्किल में आ गई थी इन बयानों की वजह से शाहरुख खान और आमिर खान को बहुत ज्यादा बातें सुननी पड़ी थी। कुछ ने पाकिस्तान जाने की बात की.. यहां तक कि उनकी फिल्म की रिलीज भी मुश्किल में आ पड़ी थी। उसके बाद से भी दोनों सुपरस्टार्स ने सामाजिक विवादों पर बयान देना बंद कर दिया।


आमिर खान का बयान- वहीं, आमिर खान ने भी एक इंटरव्यू में कहा था- 'मैं महसूस करता हूं कि पिछले छह से आठ महीने में असुरक्षा और डर की भावना बढ़ी है। मैं घर पर जब किरण से बात करता हूं, तो वह कहती हैं कि ‘क्या हमें भारत से बाहर चले जाना चाहिए?' किरण का यह कहना दुखद एवं बड़ी बात है। उन्हें अपने बच्चे की चिंता है। उन्हें भय है कि हमारे आसपास कैसा माहौल होगा। उन्हें प्रतिदिन अखबार खोलने में डर लगता है।'

तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया बयान इस बयान को लेकर आमिर खान को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा। लोगों ने 'असहिष्णुता' शब्द को लेकर आमिर को खूब ट्रोल किया।


Related Posts
Previous
« Prev Post